Read latest updates about "राज्य" - Page 2

  • उपेंद्र कुशवाहा की 'खीर' से बिहार की सियासत में आ सकता है उबाल ?

    पटना। शनिवार को पटना में एक समारोह में राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसपा) के अध्यक्ष और केंद्रीय शिक्षा राज्यमंत्री उपेंद्र कुशवाहा द्वारा कहे गए शब्दों ने बिहार की राजनीति को 2019 के चुनावों से पहले एक बार फिर गर्मा दिया है । कुशवाहा द्वारा दिये गए भाषण के आधार पर एनडीए और यूपीए दोनों ही खेमों के...

  • एट्रोसिटी एक्ट (SC/ST एक्ट) : कलम पर प्रहार - पत्रकारों पर वार

    सच बोलने का आदि हूँ.... अपने शहर का सबसे बड़ा फ़सादी हूं..... 4-6 रोज़ पूर्व अचानक बाड़मेर राजस्थान के युवा पत्रकार दुर्गसिंह राजपुरोहित के मोबाइल की घण्टी बजती है । दुर्गसिंह द्वारा कॉल पिक करने पर दूसरी तरफ से आवाज़ आती है..... हेल्लो मैं SP बाड़मेर आपसे मिलना चाहता हूं । दुर्गसिंह जब SP कार्यालय...

  • चंपारण: मुस्लिमों द्वारा दलित स्त्रियों के साथ दुराचार, दलितों की हत्याएं

    मुस्लिमों द्वारा दलित परिवार के लोगों की हत्याएं, दलितों में दहशत - SC/ST Act. Fail ? क्या मुस्लिमों को नहीं है इस Act का कोई डर ? बिहार के चंपारण में इस समय दलितों की बस्तियों में दहशत के कारण बुरा हाल है और सूत्रों के अनुसार दलित परिवार गाँव से पलायन करने को मजबूर हैं।आज दलितों के वो मसीह कहाँ...

  • नहीं रहे अजातशत्रु, भारत रत्न 'अटल'

    भारत रत्न और तीन बार के प्रधान मंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने गुरुवार को अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान में अपनी आखिरी सांस ली। वाजपेयी जी एक दशक से अधिक समय तक बीमार बीमारी से पीड़ित थे। इस लंबी बीमारी के बाद आज 93 वर्ष की आयु में पूर्व प्रधान मंत्री अटल बिहारी वाजपेयी जी का निधन हो गया। कल रात...

  • 15 अगस्त: स्वतन्त्रता की खुशी या बँटवारे का दर्द?

    15 अगस्त 1947 भारत की आजादी का दिन था. हमें आजादी मिली, उस खुशी को आज भी हम हर साल आजादी के दिन के रूप में मनातें हैं पर इस खुशी को मनाते हुये हममें से कितने लोग हैं जिनके मन में कोई वेदना होती है, कोई पीड़ा होती है? किसी का भी स्वाभाविक प्रश्न होगा कि आजादी के दिन कोई वेदना या कोई पीड़ा क्यों हो? ...

  • उमर खालिद पर अटैक "सच या एक ड्रामा"

    13 अगस्त को Constitution Club of India के बाहर रोड पर स्थित चाय की दुकान के पास 'उमर खालिद' पर हुये कथित गोली कांड पर दो अलग-अलग चश्मदीद गवाहों के बयान सुनने को मिले। दोनों के ही बयान एक दूसरे के विपरीत है। इनमें से पहले हैं 'पत्रकार संतोष' और दूसरा है उमर का ही साथी 'खालिद सैफी'। इन दोनों के ही...

  • कैसा जश्न? कैसी स्वतंत्रता? 15 अगस्त 1947!

    असली जायज़ जश्न होता है 14 अगस्त को पाकिस्तान में। हाँ, उन्होंने पाकिस्तान को भारत से छीना था, 14 अगस्त 1947 को। सामूहिक भारत की कुल 20 % आवादी ने भारत का 35 से 40 प्रतिशत हिस्सा भारत से छीन लिया था..उनके पास जिन्ना था। हमारे पास हिजड़े थे... 50 लाख सनातन हत्याएं हुईं (नरेंद्र कोहली के शब्दों में)...

  • जल बचाओ, वीडियो बनाओ, पुरस्कार पाओ प्रतियोगिता में लोगों ने जीते पुरस्कार

    जल संसाधन, नदी विकास एवं गंगा संरक्षण मंत्रालय के द्वारा आयोजित प्रतियोगिता 'जल बचाओ, वीडियो बनाओ, पुरस्कार पाओ' के पहले पखवाड़े के विजेताओं के नाम घोषित कर दिए हैं। यह प्रतियोगिता 10 जुलाई, 2018 को शुरू हुई थी। 10 जुलाई से 24 जुलाई, 2018 की अवधि के लिए वाराणसी के श्रेष्ठ साहू, भोपाल के श्री सतीश...

Share it
Top