NMCG कार्यकारी समिति की 42वीं बैठक में सहारनपुर में हिंडन नदी के लिए 135 एमएलडी एसटीपी परियोजना सहित 660 करोड़ रुपये की 11 परियोजनाओं को मंजूरी

NMCG कार्यकारी समिति की 42वीं बैठक में सहारनपुर में हिंडन नदी के लिए 135 एमएलडी एसटीपी परियोजना सहित 660 करोड़ रुपये की 11 परियोजनाओं को मंजूरी

NMCG कार्यकारी समिति की 42वीं बैठक में सहारनपुर में हिंडन नदी के लिए 135 एमएलडी एसटीपी परियोजना सहित 660 करोड़ रुपये की 11 परियोजनाओं को मंजूरी

राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन की कार्यकारी समिति की 42वीं बैठक 19 मई 2022 को G Asok Kumar, महानिदेशक, एनएमसीजी की अध्यक्षता में आयोजित की गई। सूत्रों के अनुसार समिति की इस बैठक के दौरान करीब 660 करोड़ रुपये की अनुमानित लागत वाली 11 परियोजनाओं को मंजूरी प्रदान की गई।

जिन परियोजनाओं को मंजूरी दी गई उनमें हिंडन नदी के लिए 'सहारनपुर टाउन के लिए अवरोधन, मोड़ और उपचार कार्य', गढ़ मुक्तेश्वर में 'चामुंडा माई तालाब का कायाकल्प', मध्य प्रदेश के मंदसौर में 'शिवना नदी का पर्यावरण उन्नयन', एवं जल और ऊर्जा की बचत के साथ खेती के प्राकृतिक तरीके का मूल्यांकन' शामिल हैं।

इसके साथ ही, पश्चिम बंगाल के कल्याणी में 'इलेक्ट्रिक श्मशान का निर्माण' और पौड़ी गढ़वाल में 'श्मशान घाट का विकास' सहित श्मशान से संबंधित दो परियोजनाओं को भी मंजूरी दी गई। इसके अलावा बद्रीनाथ में रिवर फ्रंट डेवलपमेंट की दो परियोजनाओं को भी हरी झंडी दी गई। बैठक में उत्तराखंड और पश्चिम बंगाल में सेप्टेज प्रबंधन की दो बड़ी परियोजनाओं को भी मंजूरी दी गई।

यह भी देखें : दिल्ली झंडेवालान स्थित 150 साल पुरानी 'कायस्थ समाज' की धर्मशाला पर किसने और कैसे किया है कब्जा ?

Executive Committee (ईसी) बैठक के दौरान उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में हिंडन नदी की सफाई के लिए सीवरेज प्रबंधन की एक बड़ी परियोजना जिसकी अनुमानित लागत रु. 577.23 करोड़ हैं जिसमें 135 एमएलडी एसटीपी का निर्माण, इंटरसेप्शन और डायवर्सन संरचनाओं का निर्माण और सीवर लाइन बिछाने आदि शामिल हैं, को अनुमोदित किया गया। अभी तक नमामि गंगे कार्यक्रम का मुख्य फोकस गंगा की सहायक नदियों की सफाई पर रहा है।


कार्यकारी समिति की 42वीं बैठक में एस.पी. वशिष्ठ (कार्यकारी निदेशक, प्रशासन), भास्कर दासगुप्ता (उप महानिदेशक, एनएमसीजी), , एस.आर. मीना (कार्यकारी निदेशक, वित्त), और श्रीमती ऋचा मिश्रा (जेएस एंड एफए, डीओडब्ल्यूआर, आरडी एंड जीआर, जल शक्ति मंत्रालय) सहित NMCG (एनएमसीजी) के अन्य वरिष्ठ अधिकारियों ने भाग लिया।

प्रभावी विकेंद्रीकृत अपशिष्ट जल उपचार के लिए मल कीचड़ और सेप्टेज प्रबंधन की आवश्यकता को स्वीकार करते हुए, एनएमसीजी ने बैठक में सेप्टेज प्रबंधन की दो परियोजनाओं को मंजूरी दी। इसमें से एक परियोजना 'हरिद्वार (150 केएलडी), ऋषिकेश (50 केएलडी), श्रीनगर (30 केएलडी) और देव प्रयाग (5 केएलडी) के मौजूदा एसटीपी में सेप्टेज का सह-उपचार' उत्तराखंड राज्य को कवर करती है, दूसरी परियोजना 'एकीकृत सेप्टेज उपचार' बर्दवान नगर पालिका के लिए संयंत्र' पश्चिम बंगाल में गंगा की एक सहायक नदी बांका में सीवेज के प्रवाह की रोकथाम पर केंद्रित है। 5 वर्षों के लिए मल कीचड़ उपचार संयंत्रों (FSTPs) के संचालन और रखरखाव सहित इन परियोजनाओं की अनुमानित लागत क्रमशः रु. 8.6 करोड़ एवं रु. 6.46 करोड़ है। इन परियोजना का मुख्य उद्देश्य बिना सीवर वाले क्षेत्रों से अनुपचारित सेप्टेज के निर्वहन से बचकर गंगा नदी के पानी की गुणवत्ता में और सुधार करना है।

मध्य प्रदेश के मंदसौर में 'शिवना नदी के पर्यावरण उन्नयन' के तहत एक प्रमुख घटक के रूप में में पॉइंट और नॉन पॉइंट सोर्स से होने वाले प्रदूषण की रोकथाम, घाट का निर्माण, श्मशान का विकास और मूर्ति विसर्जन की सुविधा शामिल है जिसका अनुमानित खर्च रु. 28.68 करोड़ आँका गया। इस परियोजना में नदी में प्रदूषण को कम करने और शिवना नदी की पर्यावरणीय स्थिति में सुधार की परिकल्पना की गई है।

81.76 लाख रुपये की अनुमानित लागत पर 'चामुंडा माई तालाब के कायाकल्प' पर परियोजना शामिल हैं किसके तहत तालाब की सफाई, गाद निकालना, पानी निकालना, बुनियादी निर्मित आर्द्रभूमि प्रणाली, जल उपचार, वातन प्रणाली, वृक्षारोपण, बाड़ लगाना, कांटेदार तार आदि भूजल को रिचार्ज करने में मदद करेंगे और स्थानीय आबादी के लिए पानी के स्रोत के रूप में कार्य करेंगे। यह गांव के समग्र सौंदर्य और स्वच्छता में भी सुधार करेगा। पुनरुज्जीवित होने वाले तालाब का कुल क्षेत्रफल लगभग 10,626 वर्ग मीटर है।

बद्रीनाथ, उत्तराखंड में रिवरफ्रंट विकास की दो परियोजनाएं के लिए स्वच्छ गंगा कोष के तहत रु. 32.15 करोड़ की मंजूरी भी दी गई है। इनमें से एक परियोजना में नदी तटबंध का निर्माण, सैरगाह, सार्वजनिक सुविधाएं जैसे पेयजल सुविधा, सार्वजनिक शौचालय आदि, बैठने की जगह, मंडप और गंगा नदी के किनारे घाट शामिल हैं। पश्चिम बंगाल के कल्याणी में 'इलेक्ट्रिक श्मशान का निर्माण' (4.20 करोड़) और पौड़ी गढ़वाल में 'श्मशान घाट का विकास' (1.82 करोड़) सहित श्मशान से संबंधित दो परियोजनाओं को भी मंजूरी दी गई।

यह भी देखें : "विदेशी चंदा लेना कोई मौलिक अधिकार नहीं": FCRA में बदलाव...

जल और ऊर्जा बचत पर प्राकृतिक कृषि पद्धतियों का मूल्यांकन' पर एक महत्वपूर्ण परियोजना को भी मंजूरी दी गई है। जल और भूमि प्रबंधन प्रशिक्षण और अनुसंधान संस्थान (वालमतरी) द्वारा कार्यान्वित की जाने वाली परियोजना का मुख्य उद्देश्य मिट्टी की उर्वरता पर प्राकृतिक कृषि पद्धतियों के प्रभाव का आकलन करने के लिए पानी और ऊर्जा बचत पर प्राकृतिक कृषि पद्धतियों के प्रभाव का अध्ययन करना है। फसल उत्पादकता और समग्र लाभप्रदता और क्षेत्र प्रदर्शन अनुकूलित प्रशिक्षण और कार्यशालाओं के माध्यम से विभिन्न हितधारकों के लिए प्राकृतिक कृषि प्रथाओं पर ज्ञान और जानकारी का प्रसार करना।

नमामि गंगा मिशन का उद्देश्य गंगा नदी के किनारे कृषि प्रथाओं को प्राकृतिक और जैविक बनाना, किसानों की आय में सुधार करना और नदी से जुड़ी पारिस्थितिकी, मिट्टी, पानी और जैव विविधता का संरक्षण करना है। दिसंबर 2019 में आयोजित पहली राष्ट्रीय गंगा परिषद (एनजीसी) की बैठक में, माननीय प्रधान मंत्री ने निर्देश दिया था कि नमामि गंगे गंगा कायाकल्प के साथ बेसिन में लोगों को एकीकृत करने के लिए सतत आर्थिक विकास- "अर्थ गंगा" के लिए एक मॉडल में नेतृत्व और परिवर्तन। प्रस्तावित अध्ययन प्राकृतिक खेती पर आधारित एक आर्थिक मॉडल तैयार करने में भी मदद करेगा, जो किसानों के लिए अधिक फायदेमंद होगा जिससे 'अर्थ गंगा' को मजबूत करने में मदद मिलेगी।

एक पायलट परियोजना - 'अर्थ गंगा फ्रेमवर्क के तहत झिल्ली आधारित मिट्टी रहित कृषि प्रौद्योगिकी का कार्यान्वयन (Implementation of Membrane-based soil-less agriculture technology) - को भी दो चरणों में क्रियान्वित किया जाएगा। परियोजना का लक्ष्य इस ढांचे का उपयोग करके 1000 एकड़ खेती को सक्षम बनाना है और 15 विभिन्न कृषि-जलवायु क्षेत्रों में 15 स्थानों पर प्रौद्योगिकी प्रदर्शन फार्म और आजादी का अमृत महोत्सव मनाने के लिए कुल 75 स्थानों पर प्रौद्योगिकी का प्रदर्शन करने के लिए 60 अतिरिक्त साइटों की पहचान करना है।

Share it