Top

राष्ट्रीय

  • लोकतन्त्र के आतंकी लुटेरे : जलता अमेरिका असर भारत तक

    समझना बहुत कठिन नही है कि ये सब क्या हो रहा क्यों हो रहा, सबकुछ आज के जमाने मे उपलब्ध है, इंटरनेट और किताबों में सारे रहस्य छुपे हैं, खैर अब तो रहस्य, रहस्य भी नही रह गए जब से सोशल मीडिया का ऐसा प्रभावशाली दौर आया है। क्रान्ति क्या होती है? आज जो गली गली में क्रांतिकारी पैदा हो रहा दरअसल इनका हिडेन ...

  • पाताल लोक: हिन्दू धर्म के प्रति अतृप्त कुंठा की कहानी

    अमेज़ोन प्राइम पर हाल ही में रिलीज़ हुई पाताल लोक नामक वेब सीरीज़ को अभी बाज़ार में आए मात्र चंद दिन ही हुए थे और देखते ही देखते अनुष्का शर्मा द्वारा निर्मित ये सी रीज़ खबरों में खूब छा गई और ऐसा तो होना ही था, आखिर विवादित चीज़े जल्दी ही सुर्खियां जो बटोरती है। आपको बता दें कि सुदीप शर्मा द्वारा लिखित...

  • मेवात का डरावना सच : बढ़ रही जहाँ मुस्लिम आबादी, वहाँ खाली हो रहे हिन्दू गाँव

    देश की 'राजधानी दिल्ली' से मात्र 60 किलोमीटर की दूरी पर है 'मेवात' गुड़गांव से अलवर के रास्ते आगे बढ़ने पर सोहना के बाद मेवात का इलाका शुरू हो जाता है। मेवात एक मुस्लिम-बहुल इलाका है। यहां मेव मुसलमानों का दबदबा है। मेव पहले हिन्दू ही थे। मेव एक जाति है। अभी भी कुछ मेव हिन्दू हैं। मेवात का इलाक...

  • भारतीय वामपंथ एक चारण : पूँजीवाद और समाजवाद का मिक्स नॉनवेज पुलाव ?

    वामपंथ मार्क्सवाद दरअसल जर्मन दार्शनिक हीगल के द्वंद्ववाद, इंग्लैंड के पूंजीवाद और फ्रांसीसी समाजवाद का 'मिला-जुला नॉनवेज पुलाव' है। इसमें यूरोपीय सामंती भावना, सबसे उच्च होने का दंभ भी रहा है और भारत, भारतीयों के प्रति हीनभाव भी। यही वजह है कि वामपंथ भारत के स्वाभाविक सांस्कृतिक राष्ट्रवाद का...

Share it